मानहानि के केसों पर मिल रही ‘केजरीवाल’ को तारीख़ पे तारीख़

0
91

दिल्ली: दिल्ली के पटियाला हाउस में अरविंद केजरीवाल की तारीख पर तारीख बढ़ती रह सकती है। क्योंकि इस अदालत में आम आदमी पार्टी के संजोयक अरविंद केजरीवाल के ख़िलाफ़ कई मामले चल रहे हैं। ये सारे मामले मानहानि के हैं। अगर सिर्फ वीआइपी मामलों की बात करें तो अरुण जेटली के अलावा मानहानि का एक केस नितिन गडकरी ने भी कर रखा है।
इसके अलावा पूर्व कानून मंत्री कपिल सिब्बल के बेटे अमित सिब्बल ने इसी अदालत में केजरीवाल पर मानहानि का केस किया है। शीला दीक्षित के निजी सचिव रहे पवन खेड़ा ने भी केजरीवाल को प्रतिवादी बना रखा है। डीडीसीए के चेतन चौहान ने भी केजरीवाल पर एक मुकदमा किया है और बीजेपी सांसद रमेश विधूड़ी ने भी केजरीवाल पर एक केस कर रखा है, जिसकी अगली तारीख़ 27 मई को है।
अरुण जेटली के मामले में तो जिस तरह दिल्ली सरकार ने नियमों पर ताक पर रख राम जेठमालनी को केजरीवाल का वकील बनाया उससे कानूनी हलकों में हलचल है। दिल्ली सरकार ने कागजी कर्रवाई तब शुरू की जब जेठमलानी ने उन्हें बिल भेजा। उप मुख्यमंत्री ने दिल्ली के कानून मंत्रालय को लिखा कि जेठमलानी का बिल चुकाया जाए। जब उन्होंने भी बिल नहीं चुकाया तो आधी अधूरी फाइल उप राज्यपाल को भेज दी गई।
वरिष्ठ वकील और राज्यसभा सांसद केटीएस तुलसी ने कहा ” जब मुख्यमंत्री ने काफी गंभीर आरोप लगाए। कहा कि DDCA मामले में सेक्स सलीज है। उन्हें आरोप लगाने से पहले सोचना चाहिए था कि पैसे कौन देगा. अब जनता से पूछने से क्या होगा।”
दिलचस्प यह है कि जेठमलानी जिस पेशी के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री से तीन लाख लेते रहे हैं, उसके लिए दिल्ली सरकार से 22 लाख मांग रहे हैं। वैसे दलील ये दी जा रही है कि जेठमलानी पंजाब सरकार के पैनल पर हैं, दिल्ली सरकार के नहीं। मामले की गंभीरता समझते हुए दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल ने सोलिसिटर जनरल से राय मांगी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here