ये लड़की डांस में हुई इतना मदहोश की बाल के साथ निकल आई खाल

0
244
उसके स‍िर के बाल समेत सिर की पूरी चमड़ी बाहर न‍िकल गई
उसके स‍िर के बाल समेत सिर की पूरी चमड़ी बाहर न‍िकल गई

उत्तर प्रदेश: इलाहाबाद में शुक्रवार को डीजे की धुन पर एक 12 साल की बच्ची डांस कर रही थी। डांस करते-करते अचानक उसके बाल जनेरेटर में फंस गए। इससे उसके स‍िर के बाल समेत सिर की पूरी चमड़ी बाहर न‍िकल गई। आनन-फानन में बच्ची को हॉस्प‍िटल में भर्ती कराया गया, जहां वो आईसीयू में है।

गया धाम यात्रा के ल‍िए बुजुर्गों की हो रही थी व‍िदाई…

# घटना इलाहाबाद के मेजा थानाक्षेत्र स्थ‍ित अकोढ़ा गांव की है। यहां के कुछ बुजुर्ग शुक्रवार को गया धाम की यात्रा पर जा रहे थे। गांव के लोग उनकी विदाई के लिए गाजे-बाजे का इंतजाम किए थे।
# सुबह 10 बजे जब गाजे-बाजे के साथ उनकी व‍िदाई हो रही थी, तो बच्चे डांस कर रहे थे। डांस के दौरान ही बच्ची हेमा यादव (12) पीछे चल रहे जेनेरेटर के पास पहुंच गई। वो इतना मशगूल थी कि उसके बाल जेनेरेटर की सेफ्टिन में फंस गए। इससे उसकी सिर की चमड़ी (कपाल) पूरी तरह से उखड़ कर बाहर आ गई।
# पूरा स‍िर लहुलूहान हो गया और वो दर्द से चीख पड़ी। घटना के बाद वहां अफरा-तफरी मच गई। जानकारी होते ही लड़की की मां फोटो देवी रोते-ब‍िलखते पहुंची और बेटी को गोद में उठा ल‍िया।

भट्ठा कारोबारी की पड़ी नजर तो रोक दी कार, 22 मिनट में पहुंचाया हॉस्प‍िटल

# इसी दौरान नैनी के चक बबुरा मोहल्ला निवासी ईंट-भट्ठा व्यापारी नीरज मिश्रा वहां से गुजर रहे थे। बच्ची पर नजर पड़ते ही उन्होंने अपनी कार रोक दी और तुरंत उसे 35 किमी दूर नैनी केडीए कॉलोनी स्थित अक्षय वट हॉस्पिटल के ल‍िए न‍िकले।
# रास्ते में मोबाइल से हॉस्पिटल के डॉक्टर और सर्जन आरपी पांडे से लगातार संपर्क में थे। वो बच्ची की स्थिति के बारे में अवगत करा रहे थे। 22 मिनट में उन्होंने बच्ची को हॉस्प‍िटल पहुंचाया।

4 घंटे चला सर्जिकल ऑपरेशन

# यहां पर पहले से अलर्ट डॉ. आरपी पांडेय की टीम ने बच्ची के पहुंचते ही तत्काल ऑपरेशन थिएटर में ले गए। 4 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद उसके सिर की खोल कर ऑपरेट किया। फिलहाल बच्ची आईसीयू में एडमिट है।
# डॉ. आरपी पांडेय ने बताया, समय पर बच्ची के अस्पताल आ जाने की वजह से उसकी जान बच गई। उसके सेल्स डैमेज नहीं हो पाए और उन्हें फिर से ऑपरेट करके लगा दिया गया है। 72 घंटे तक बच्ची को विशेष ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा। इस अवधि के बाद ही पता चलेगा कि सिर ने चमड़े की खोल को कितना एकसेप्ट किया है।
# हो सकता है कि जांच में कुछ दिक्कत आए तो दोबारा ऑपरेशन करना पड़ेगा। बाकी बच्ची की हालत ठीक है। वहीं, बच्ची हेमा की मां फोटो देवी ने बताया, नीरज म‍िश्रा की वजह से उनकी बच्ची की जान बच पाई। अगर बेटी समय पर हॉस्प‍िटल नहीं पहुंचती तो शायद उसकी जान नहीं बच पाती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here